मंगलवार, 1 जुलाई 2008

बिटिया सुहाना के लिए

सो जा बिटिया रानी, सो जा
बंद कर अब शैतानी, सो जा
नींद में परियां आएँगी
मीठे गीत सुनाएंगी
उड़न खटोले पर बिठला कर
परीलोक ले जाएँगी
वहां मिलेंगे चंदा मामा
पहने तारों जडा पजामा
दूध मलाई देंगे तुझको
और देंगे गुड-धानी, सो जा
सो जा बिटिया रानी, सो जा
मुझे हँसाने वाली पुडिया
तू है मेरी सोणी गुडिया
मेरी खुशियों का तू खजाना
मेरा खिलौना, मेरी सुहाना
सो जा पापा गएँ लौरी
सो जा अम्मी करे चिरौरी
सपनों कि महारानी, सो जा
मन जा गुडिया रानी, सो जा

4 टिप्‍पणियां:

pallavi trivedi ने कहा…

bahut bahut pyari kavita hai...bitiya ka foto bhi laga deejiye.

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

Pyari lori hai. Badhayi

Pragya ने कहा…

bahut achhe!!! mai bhi apni beti ko sunaoongi...bas ek beimaani karungi... suhana ki jagah uska naam daal kar sunaoongi :))
bahut pyaari lori

शहरोज़ ने कहा…

निसंदेह प्यारी लोरी! लिखते रहो भाई.