शुक्रवार, 27 जून 2008

चार लाइन

हिंदू भी यहाँ है, मुसलमान यहाँ है
सिख, बोध, जैन और किरिस्तान यहाँ है
लेकिन जिसे खोजता हूँ, वो नहीं है
इंसान कहाँ है?, यहाँ इंसान कहाँ है?

3 टिप्‍पणियां:

श्रद्धा जैन ने कहा…

wah kya baat hai
insaan kaha hai insaan kaha hai
kamaal kaha hai
Zakir
likhte jaaye dost

रज़िया "राज़" ने कहा…

बहोत खूब। ज़ाकिर साहब एसे ही लिख़ते रहीए।

सतीश सक्सेना ने कहा…

बहुत खूब !