मंगलवार, 15 जुलाई 2008

तनहा चाँद

कल शब मुझ को तनहा पाकर
खिड़की में आ बैठा चाँद
यादें,बातें,चेहरें,नातें
लेके क्या-क्या बैठा चाँद
एक खुशबू ने आ कर
मेरे जिस्म को जैसे चूम लिया
शायद उसके दस्ते-हिना से
मुझको फिर छु बैठा चाँद
मेरे भीतर यारों कोई
गाँव सा बसता जाता है
राहें,टीले,पीपल,छप्पर
मुझमे बनाने बैठा चाँद
जाते हो तो जाओ, लेकिन
क़सम है मेरी आ जाना
जाने किस की भूली बातें
फिर दोहराने बैठ चाँद

(सितम्बर २००० में एक रोज़)

17 टिप्‍पणियां:

talib ने कहा…

बहुत खूब जनाब! खूबसूरत ब्लॉग के लिए मुबारक बाद .लेकिन भाई इस अच्छी नज़्म को नज़्म ही रहने दें.ग़ज़ल की तोहीन क्यों करते हैं .ग़ज़ल के लिए मतला के साथ और भी शर्तें होती हैं.
बकया चीज़ें बहुत मुत्तासिर करती हैं.ऐसा ही लिखते रहें.

ज़ाकिर हुसैन ने कहा…

जनाब तालिब साहब
गलती से नज़्म को ग़ज़ल लिख गया था
याद दहानी कराने और अपनी कीमती राय टिपण्णी देने के लिए शुक्रिया

श्रद्धा जैन ने कहा…

wah kya baat hai
Nazm bahut khoob rahi zakir sir
ye line bhaut pasand aayi

यादें,बातें,चेहरें,नातें
लेके क्या-क्या बैठा चाँद
एक खुशबू ने आ कर
मेरे जिस्म को जैसे चूम लिया
शायद उसके दस्ते-हिना से
मुझको फिर छु बैठा चाँद

Smart Indian ने कहा…

माशा अल्लाह बहुत खूबसूरती से कही है अपनी बात आपने. यूँ ही लिखते रहिये.

Pragya ने कहा…

bahut khoob...
bahut khoobsurat blog hai aur rachnaayen wakai taarif ke kaabil hain..

rakhshanda ने कहा…

एक खुशबू ने आ कर
मेरे जिस्म को जैसे चूम लिया
शायद उसके दस्ते-हिना से
मुझको फिर छु बैठा चाँद


vaah zaakir sahab...pahli baar aapke blog par aayi,,is nazm ne dil moh liya...achha huaa aapse milna ho gaya, varna itni khoobsoorat nazm kahan se padhti...bahut khoob

pallavi trivedi ने कहा…

bahut sundar nazm..

अंगूठा छाप ने कहा…

है तो सुंदर नज्म, लेकिन जरा टेक्नीकली मुझे कहीं कहीं खटकती सी लगी। शायरी हो या नज्म ये खूब रियाज मांगती हैं। फिर एक वक्त ऐसा भी होगा कि आप जो कहेंगे वो सब काव्य होगा।


शुभकामनाएं!

डुबेजी ने कहा…

najam ki samajh cartoonist ko kahan par apke blog shuru karne par shubhkamnayen

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

khobsoorat nazm hai, badhaayi.
Aur haan, coment box se word verification hataa den, suvidhaa hogi.

Lalit ने कहा…

Jakir, main to shuru se hi tumhara qayal raha hoon. Very good. I am not worried definition of art as long as it touch my heart. to chahey yeh nazm ho ya ghazal ya rubaa'i does not matter.

Shubhkamnayen
Lalit

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

बहुत ही प्यारी लगी आपकी यह नज्म लिखते रहे

Udan Tashtari ने कहा…

मेरे भीतर यारों कोई
गाँव सा बसता जाता है
राहें,टीले,पीपल,छप्पर
मुझमे बनाने बैठा चाँद


--बहुत खूब!! वाह!!

मानसी ने कहा…

अच्छा है।

मानसी

अनुराग ने कहा…

मेरे भीतर यारों कोई
गाँव सा बसता जाता है
राहें,टीले,पीपल,छप्पर
मुझमे बनाने बैठा चाँद
जाते हो तो जाओ, लेकिन
क़सम है मेरी आ जाना
जाने किस की भूली बातें
फिर दोहराने बैठ चाँद


behad khoobsurat....behad haseen.....

नीरज गोस्वामी ने कहा…

मेरे भीतर यारों कोई
गाँव सा बसता जाता है
राहें,टीले,पीपल,छप्पर
मुझमे बनाने बैठा चाँद
क्या बात है जनाब...वाह....बहुत खूब.
नीरज

राजीव रंजन प्रसाद ने कहा…

मेरे भीतर यारों कोई
गाँव सा बसता जाता है
राहें,टीले,पीपल,छप्पर
मुझमे बनाने बैठा चाँद

वाह जाकिर साहब, कमाल की रचना है।


***राजीव रंजन प्रसाद

www.rajeevnhpc.blogspot.com
www.kuhukakona.blogspot.com